Pages

Sunday, November 23, 2008

शाखा कैसे लगाएँ

कुछ समय पहले हमारे मोहल्ले मे संघ शाखा लगनी शुरू हुई। पहले एक दाढ़ी वाले बुजुर्ग सज्जन दिखे, फिर तो सात-आठ लोग आर्मः-दक्शः करते दिखने लगे। संयोग से इनमे कुछ लोग वही हैं जिनके साथ मैं वोलिबाल खेलता हूँ। एक दिन बुजुर्ग ने मेरी तरफ ऊँगली दिखाकर कहा कि मेरी तो इच्छा है कि किसी तरह ये काली शर्ट वाले भाई साहब शाखा मे आयें, सुबह उठने मे परेशानी हो तो हम लोग उठा देंगे । मैंने कहा कि मैं तो साढ़े चार बजे भोर मे ही उठ जाता हूँ । बोले आइये तो थोड़ी कसरत हो जायेगी। मैंने कहा, मैं कसरत भी टहलते वक्त ही कर लेता हूँ। थोड़ी झल्लाहट के साथ उन्होने कहा कि कम से कम प्रार्थना तो साथ मे कर ही सकते हैं। मैंने कहा कि प्रार्थना भी कोई साथ मे करने की चीज है? इसके बाद वे खुद को दूसरे लोगों से बात करने मे व्यस्त दिखाने लगे और मुझमे रूचि लेना बंद कर दिया।यह बात मैंने अपने एक वरिष्ठ अखबारी साथी को बताई तो उन्होने एक पुरानी खबर और उसे दिए गए शीर्षक का किस्सा मुझे सुनाया। खबर दिल्ली की ही थी । पंजाबीबाग इलाक़े मे एक संघ पदाधिकारी किसी बालक के साथ रँगे हाथ पकड़े गए। मोहल्ले के लोगों ने बाहर से दरवाजा बंद कर दिया और काफी नाटक के बाद पुलिस के दखल से मामला रफा-दफा हुआ। स्ट्रिन्गेर ने खबर भेज दी लेकिन डेस्क पर हेडिंग लगाने वालों कि आफत आ गयी । क्या किया जाये कि बात भी आ जाये और शालीनता भी बची रहे। आखिरकार चीफ सब ने हथौड़े की तरह हेडिंग मारी ' शाखा लगाते पकडे गए संघ प्रचारक '। इसके बाद से अखबार मे शाखा लगाने को लेकर कोई कन्फ्यूजन नही पैदा हुआ।

नोट - ये पहलु से लिया गया है...साभार है

No comments: