Pages

Sunday, April 12, 2009

सरसों की चटनी

मुझे आजकल लंच में रोजाना अलग- अलग चीजें मिलती हैं लेकिन एक स्थायी सामग्री उसमें जरूर रहती है- सरसों की चटनी। पता नहीं आपने चखी भी है या नहीं... लेकिन मेरे साथियों ने चटनी की काफी तारीफ की। मेरी पत्नी के हाथों बनी ये चटनी वाक़ई अच्छी लगती है। आप सबके लिए उससे पूछकर बता रहा हूं... शायद आपको भी पसंद पड़े। अच्छा लगे तो लिखकर जरूर बताएं। अच्छी न लगे तो चुप रह जाएं।- चार –पांच चम्मच पीली सरसों के साथ छीले हुए लहसुन के दो –तीन दाने, दो हरी मिर्च और अदरख का छोटा टुकड़ा लेकर मिक्सी में डालें। आधा कप पानी डालकर उसे पीस लें। कुछ सेकेंड बाद निकालकर उसमें एक नींबू निचोड़ लें और एक चम्मच कच्चा सरसों तेल डालकर खाएं।

9 comments:

Shikha Deepak said...

विधि देख कर तो बड़ी चटपटी लग रही है। आज ही ट्राई करेंगे

mamta said...

चटपटी तो लग रही है। :)

Pratyaksha said...

चटनी चटपटी है .. वैसे इसी चटनी में हम मछली बनाते हैं और हमेशा इसे मसाला समझा ..कल चटनी की तरह खाई और मज़ा आ गया । क्या मस्टर्ड सॉस इसका मुकाबला करेगा , हाँ शुभ्रा काशुंडी जैसा ही दमदार है ..

Arvind Mishra said...

ये तो अच्छा बताया आपने ! आज ही चखते हैं !

रंजना [रंजू भाटिया] said...

शुक्रिया जरुर बना के देखेंगे

लवली कुमारी / Lovely kumari said...

आज ही बनाती हूँ.

Bhuwan said...

वाह.. मजा आ गया...

Jayant said...

मैने अपने चैनल की कैन्टीन संचालक को ये विधि समझा के अनुरोध किया चटनी बनाने के लिए, तो वो हैरान-परेशान होकर माथा खुजलाने लगा.... छोड़िए, घर से दूर नौकरी करने वालों के लिए शायद ये चटनी जन्नत के फल सरीखी है.... खैर मुंह में पानी लाने वाली विधि के लिए धन्यवाद.....

janam said...

Achha bana hai