Pages

Wednesday, November 25, 2009

मुफ़लिसी में हंसी


पवन के कार्टून का मुरीद रहा हूं... रेखाचित्रों से ज्यादा उनके कार्टून का सब्जेक्ट जोरदार रहा है। कार्टून पर जाकर क्लिक कीजिये और आप भी मजा लीजियेः संजीव

4 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

कार्टून द्वारा सही हालात का चित्रण!

nishtha said...

सर गजब का कार्टून है।
आप की पंसद का तो जवाब नहीं।
वाक़इ सर इस कार्टून ने तो गरीब होने के लिए तो वजन करने का तरीका निकाला है वो काबिलेतारिफ है।

ramnandan said...

Pawan jee ke cartoon ki jitni taareef kee jae kam hai.Unhe meri ore se subhkaamnaayein...JAI HIND

ramnandan said...

Pawan jee ke cartoon ki jitni taareef kee jae kam hai.Unhe meri ore se subhkaamnaayein...JAI HIND